इस ब्लॉग पर आने के लिए शुक्रिया, कृपया कमेण्ट्स कर मुझे मेरी गलतियां सुधारने का मौका दें

Monday, July 26, 2010

इंसान सबसे ज्यादा माफ़ी किससे मांगता है?

पेश है एक छोटी सी पहेली,छोटा सा सवाल या कह लिजिये छोटी सी पोस्ट।कल रात्रिकालीन सत्संग जब फ़ुलफ़ार्म में था तब अचानक मैंने सबसे एक सवाल पूछा।सवाल पूछते ही सबने छूटते ही जवाब देने शुरू कर दिये।सवाल तो आप समझ ही गये होंगे,जी हां बिल्कुल वही,इंसान सबसे ज्यादा माफ़ी किससे मांगता है।अब जो जवाब सामने आये वे सब आपके भी मन मे उमड़-घुमड़ रहे होंगे।इंसान सबसे ज्यादा माफ़ी भगवान से मांगता है,डाक्टर का जवाब आया,लक्ष्मण का जवाब था अपने-आपसे।मणी बापा-सत्येन्द्र ने कहा मां-बाप से तो राकेश भी अपने आप से का राग आलापने लगा।भगवान,मां-बाप और अपने-आप इसके अलावा तो इंसान किसी से कभी-कभार ही माफ़ी मांगता है।सबने अपने-अपने जवाब के सही होने की पुष्टी चाही मगर मैने सबके जवाब को गलत कह कर सबका दिमाग खराब कर दिया।तब सबने एकस्वर मे पूछा तो तू ही बता दे कि सही जवाब क्या है?मैने कहा बिल्कुल और जो जवाब बताया तो सबका दिमाग और खराब हो गया,।लिजिये आप को बता देते हैं सही जवाब क्या है?इंसान सबसे ज्यादा माफ़ी भिखारियों से मांगता है।है ना सही जवाब्।जैसे कोई भिखारी मांगने आता है तो पहला वाक्य यही निकलता है माफ़ करो बाबा।छुट्टे नही तो बाद मे आता है।तो बताईये सही जवाब है ना मेराओ गया ना आपका भी दिमाग खराब्।हा हा हा हा हा हा।मेरा भी हुआ था जब ये सवाल मुझसे मेरे दोस्त किशोर ने उसके शापिंग माल मे जाने पर पूछा था।तब मेरे भी जवाब वही थे जो मेरे दोस्तों के थे मगर मुझे किशोर ने बताया कि नही सही जवाब ये है।तब मैं भी चकरा गया था।तो कैसी लगी मेरी पहेली।

24 comments:

सुधीर said...

ek dum sahi javab.

सुधीर said...

ek dum sahi javab.

राज भाटिय़ा said...

अजी हमारे यहां तो भिखारी ही नही मिलते??? तो फ़िर माफ़ी किस से मांगता है इंसान??? अंजान लोगो से जी.... टकरा गये तब माफ़ी, रास्ता पुछना हो तब माफ़ी, रास्ता बनाना हो तब माफ़ी....समय पूछना हो तब.... अजी यहां तो गाली देना हो तो भी माफ़ी...

Udan Tashtari said...

बढ़िया पहेली है..वाकई भिखारियों से ही सबसे ज्यादा माफी माँगता है.

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

bahut baddhiya//

प्रवीण पाण्डेय said...

आपका जबाब बिल्कुल सही है। यही होता है पर ध्यान नहीं जाता है।

S.M.HABIB said...

हा.. हा.. हा.. आज अख़बार में राष्ट्र मंडल खेलों के मद्दे नजर रेलवे द्वारा कुलियों को जेंटलमेन बनाने के लिए व्यक्तित्व विकास और अंग्रेजी शिक्षा दिए जाने का समाचार पढ़ा तो सोच रहा था कि राष्ट्र मंडल खेलों के मद्देनजर भिखारियों को भी जेंटलमेन बनने और अंग्रेजी बोलने का प्रशिक्षण दिया जाना चाहिए ताकि वे बाहर देशों से आने वाले अतिथियों से अंग्रेजी में भीख मांगे और अपने मुल्क कि शान बढ़ाएं. आपका पोस्ट पढ़कर फिर उस समाचार की याद आ गई. वैसे विदेशी मेहमान हमारे भिखारियों से क्या कह कर माफ़ी मांगेंगे भईया?

ali said...

सही जबाब !

भारतीय की कलम से.... said...

हा हा हा क्या बात है .............सच इस बात पर आज तक ध्यान नहीं गया था .....पर सच ही तो है इन्सान भिखारी को देखते ही "माफ़ करो यार छुट्टे नहीं है" कहता है .........शानदार पहेली के लिए शुभकामनायें !!

shikha varshney said...

हा हा हा सही जबाब वैसे हम तो अपने बच्चों से सबसे ज्यादा माफ़ी मांगते हैं :)

arvind said...

आपका जबाब बिल्कुल सही है। शानदार पहेली के लिए शुभकामनायें

डॉ टी एस दराल said...

सही कहा ।
बस फर्क इतना है कि हम तो हाथ हिला कर मांफी मांग लेते हैं ।

शरद कोकास said...

हम तो पत्नी से माँगते हैं ...।

dhiru singh {धीरू सिंह} said...

कितना सही जबाब . १००% सच

दीपक 'मशाल' said...

शरद भैया ने १०० प्रतिशत का कुछ हिस्सा कम कर दिया धीरू जी.. :P मजेदार..

Vivek Rastogi said...

छोटी छोटी बातों पर ध्यान ही नहीं दिया जाता, बात बिल्कुल सही है।

पर हम तो सबसे ज्यादा माफ़ी अपनी पत्नी से माँगते हैं या अपने बेटे से :)

P.N. Subramanian said...

सही कह रहे हैं.

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

आपकी यह प्रस्तुति कल २८-७-२०१० बुधवार को चर्चा मंच पर है....आपके सुझावों का इंतज़ार रहेगा ..


http://charchamanch.blogspot.com/

anitakumar said...

:)mazedaar rahaa

Halke-Fulke said...

MULAKAT HO TO BATAUNGA...KAAN ME..
POST MAJEDAR HAI....

soni garg said...

अच्छी पहेली और अच्छा जवाब !!!!

ajay saxena said...

सही जवाब-सबसे ज्यादा भिखारी से फिर उधारी मांगने वालों से...

बी एस पाबला said...

सही ज़वाब! लॉक किया जाए :-)

बी एस पाबला

अनूप शुक्ल said...

इंसान सबसे ज्यादा माफ़ी भिखारियों से मांगता है बशर्ते इंसान खुद भिखारी न हो!