इस ब्लॉग पर आने के लिए शुक्रिया, कृपया कमेण्ट्स कर मुझे मेरी गलतियां सुधारने का मौका दें

Wednesday, February 23, 2011

kise sach mane,akhbaar ko ya tv ko?

ek chhoti si post, media ki wishvasniyata par saval uthati!orrisa ke dm ki rihai ko lekar alag-alag khabren,aaj subah akhbaron ke pehle page ki khabar thi unki rihai aur star news abhi dophar taq bata raha hai ki we riha nahi kiye gaye, ab kise sach mane?aapko kya lagata    hai is tarah alag-alag khabren kya uski wishvasniyata par saval nahi khade kar rahe hain?

5 comments:

Udan Tashtari said...

यूँ तो दोनों पर ही विश्वास उठ गया है...

प्रवीण पाण्डेय said...

बात को न जाने कितनो कोणों से दे देते हैं कि समझ में नहीं आता कि सच क्या है।

Rahul Singh said...

शायद चक्‍कर सबसे आगे का है.

Atul Shrivastava said...

अखबारों में मैंने भी सुबह पढा कि मलकानगिरी के कलेक्‍टर रिहा हो गये। पढकर अच्‍छा लगा लेकिन दिन भर टीवी चैनलों में खबरें आती रहीं कि अभी रिहाई नहीं हुई है। अब किसे सच मानें।
जहां तक मेरा मानना है कल रात अखबारों को रिहाई की अपुष्‍ट जानकारी मिली होगी और आगे रहने के चक्‍कर में खबर छाप दी गई होगी। लेकिन वह सच नहीं थी। आज टीवी में जो दिखाया जा रहा था उसमें अधिकारिक पुष्टि की बात कह कर बताया जा रहा था।
खैर आपकी छोटी सी पोस्‍ट है तो आखिर मीडिया पर सवालिया निशान।

दीपक 'मशाल' said...

hmm main bhi confusion me tha.. times of india ke hi video me dikha rahe hain ki he has been released n usi me print me kahte hain ki sirf engineer Manjhi riha hua.
mujhe lagta hai helmet lagaaye engineer ko door se boat me aate dekh in logon ne kayaas laga liya hoga ki DM has been released.. aur fir bina kuchh dekhe sune bhaag khade hue honge, raftaar ke chakkar me.