इस ब्लॉग पर आने के लिए शुक्रिया, कृपया कमेण्ट्स कर मुझे मेरी गलतियां सुधारने का मौका दें

Tuesday, January 31, 2012

सूर्यदेवता आप काहे मुंह छिपा रहे हैं,कौन से आप नेता है या इंडियन क्रिकेट टीम के मेम्बर?

सूर्यदेवता आप कंहा छिप जा रहे है?क्यों छिप जा रहे है?समझ में ही नही आ रहा है.ये तो आपका समय है.बचपन से सुनते आ रहे है संक्रांति के बाद सूर्य उत्तरायन हो  जाता है.दिन बडे हो जाते है और ठण्ड विदा ले लेती है.मगर यंहा तो सब उल्टा ही नज़र आ रहा है.दिन बडे होना तो छोड दिन जैसे ही नज़र नही आते और ठण्ड विदा होना छोड सरकारी ज़मीन पर अचानक उग आने वाली झुग्गी बस्ती की तरह दिन दुनी बढती है नज़र आ रही है.आपको तो इस समय अकड कर पिछ्ले दिनों ठण्ड से मिली हार का बदला लेना चाहिये मगर आप तो इंडियन क्रिकेट टीम के स्टार प्लेयर नज़र आ रहे हैं.अपने देश में भी फेल और विदेश में भी.ठ्ण्ड में भी मुंह छिपाते फिर रहे थे और अब ठण्ड खतम हो जाने पर भी वही हालत.आप देखिये किस बेशर्मी से अपने क्रिकेटर भाई लोग सीना तान कर कह रहे है कि अगली बार हमारा परफार्मेंस देखना.किस बेशर्मी से हमारे नेता,घरानेदार,दमदार,वज़नदार,सभी टाईप के  नेता युपी में गरज़ रहे है कि अब विकास करके रहेंगे.63 साल तक़ युपी की ऎसी की तैसी करने के बाद भी किसी अकड के साथ गरज़ रहे हैं?और एक आप हैं मुंह छिपाये फिर रहे हैं,ना आप नेता है और न क्रिकेटर फिर भी मुंह छिपा रहे हैं?पता भी है आपको कि गरीब ठिठुर कर मर रहा है.हमारे जैसे अधकचरा नालेज रखने वाले लोग भी आपकी इस हरकत के कारण अब ग्लोबल वार्मिंग की बजाये ग्लोबल कूलिंग के नाम से लोगों को डराने लगे हैं.ठीक है इंसान ने प्रकृति से छेडछाड की है तो वो भुगतेगा,मगर आप क्यों उनकी हरक़तो पर शर्मिंदा हो रहे हैं?राजा,कन्निमोई और कलमाडी के साथी आज युपी की बहनजी हो भ्रष्ट कहते समय नही शर्मा रहे हैं?भगवान राम को कई साल के बाद फिर एक गुमटी,झोपडी देने का वादा करने वाले नही शर्मा रहें है तो फिर आपको क्या हो गया महाराज?आपके बिना दिन दिन नही लगता है?सालो पुराना सूट इस बार ठण्ड में बाहर निकला है.घिसे-पिटे स्वेटर के भरोसे ठण्ड काट लेने की बात सोचने वाले अब नया स्वेटर खरीदना एफोर्ड नही कर पा रहे हैं.महाराज मैं तो कहता हूं आप लौट आओ फुल फार्म में.दिखा दो सबको अपनी चमक.बहुत बात करने लग गये हैं साल्ले ग्लोबल कूलिंग की.ठण्ड में ये होगा,वो  होगा ,यंहा का रिकार्ड टूटा,वंहा का टूटा.पहाड तो पहाड मैदान में बर्फ जमी,ये जम जायेगा वो जम जायेगी.चार दिन क्या आप मुंह छिपा कर भागे हो लोग क्या क्या बात करने लगे है.महाराज मैं आपका पंखा हूं,आपके बारे में ज्यादा नही सुन पाता सो आपको ज्यादा बता भी नही पाऊंगा.मगर इतना जरुर कहूंगा महाराज लौट आपको कोई कुछ् नही कहेगा वाला टाईप का अगर आप चाहे तो विग्यान भी दे देता हूं.मगर आप लौट आओ,महाराज ठण्ड के मारे बुरा हाल है.

1 comment:

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

चलिए आपकी इच्छा जल्दी पूरी करें सूर्य भगवान..