इस ब्लॉग पर आने के लिए शुक्रिया, कृपया कमेण्ट्स कर मुझे मेरी गलतियां सुधारने का मौका दें

Monday, October 20, 2008

20 रूपए महीने में शायर बना रहे हैं ?

क्‍या आप शायर बनना चाहते हैं ? ये सवाल मैसेज में देख खुशी भी हुई और गुस्‍सा भी आया। पता नहीं क्‍या सोचकर मैसेज बनाती है कंपनियां। अब बताईए भला क्‍या 20 रूपए महीने में कंपनी की महफिल के ग्राहक हो जाने से कोई शायर बन सकता है भला ? तंग आ गया हूं कंपनियों के कॉमर्शियल एस.एम.एस. से। और तो और त्‍यौहारों के एस.एम.एस. करने का ठेका लेने वाली कंपनियां बाजा़र में आ गई है। एक एस.एम.एस. डि‍लिट करो नहीं दूसरा आ जाता है।






56505 नंबर से आया एस.एम.एस. पढ़कर ऐसा लगा क‍ि कोई मुझे शायर बनाना चाहता हैं, लेकिन शायर बनना चाहते हो ? इस सवाल के तत्‍काल बाद सब्‍सक्राइब महफिल या शायरी पैक पढ़ते ही माजरा समझ में आ गया। 20 रूपए महीने में ये हर रोज 2 शेर देकर मुझे और मुझ जैसे लाखों करोड़ों लोगों को शायर बनने का न्‍यौता दे रहें। भला 20 रूपए महीने में 2 शेर रोज पढ़कर कोई शायर बन सकता है ?


ऐसा ही एक एस.एम.एस. पि‍छले दि‍नों दशहरे की शुभकामनाओं पर मि‍ला था। वो राज्‍य के पर्यटन व वनमंत्री बृजमोहन अग्रवाल की ओर से दशहरे का शुभकामना संदेश था। उस संदेश के ठीक नीचे एयर होस्‍टेस एकेडमी का वि‍ज्ञापन भी लि‍खा था। अब उस संदेश को पूरा पढ़कर ऐसा लगता था कि‍ बृजमोहन अग्रवाल ने एयर होस्‍टेस ट्रेनिंग एकेडमी खोल ली हो। महापौर की ओर से आए संदेश में बीमा कंपनी का वि‍ज्ञापन था। ऐसा लगा महापौर बीमा कंपनी के एजेंट हो गए हैं। थोक में एस.एम.एस. करने का ठेका लेने वाली कंपनि‍यां लगातार एस.एम.एस. कर रही है। अब कि‍स-कि‍स नंबर के एस.एम.एस. पर रोक लगवाएं, समझ में नहीं आ रहा है। कभी-कभी सुवि‍धा के लि‍हाज से सबसे अच्‍छा उपकरण अनचाहे एस.एम.एस. के कारण खीज पैदा कर देता है।

21 comments:

अनुजा said...

जानदार मुद्दा उठाने के लिए शुक्रिया। इसे कवि अशोक वाजपेई को जरूर पढ़ना चाहिए।

makrand said...

acha mudda he
regards

शोभा said...

बढ़िया लिखा है..

COMMON MAN said...

achchi baat hai, 20 rupaye me lekhak aur shayar paida hone lagen to isse achchi kya baat hogi

दीपक said...

चारो तरफ़ पैसा और ग्लैमर है ।कोइ खरीद रहा है इसलिये कोइ बेच रहा है॥ अब गुस्से मे मोबाईल ना फ़ोडियेगा !!हा हा हा

Zakir Ali 'Rajneesh' said...

चलिए शायरों की भी दुकान तो खुली।

Arvind Mishra said...

आपने एक दुखती रग को छुआ है !

रंजना said...

sahi kaha aapne.

Kamlesh SHarma said...

Very True Mere Bhai, Aapne bilkul thik kha. Hr koi ese message se pareshan He.......

Dungarpuria said...

Very True...................

seema gupta said...

" oh sirf 20 RS mey kya..????????????"

Regards

venus kesari said...

इससे सस्ता और टिकाऊ तरीका भी है आपके पास
गजल की क्लास चल रही है आप भी शिरकत करिए यहाँ पर जाकर
www.subeerin.blogspot.com

वीनस केसरी

Gyandutt Pandey said...

क्या बतायें, इस एसएमएस के नासूर से हम भी हलकान हैं।

शहरोज़ said...

janhit ka mudda uthakar aap aaj phir janpakshdhar lekhak ki paant me aa gaye.

ham sab dukhi hain anjani calls aur sms se.

जितेन्द़ भगत said...

नई तकनीक अपने साथ कई मुसीबतें भी लाती हैं,ये भी उनमें से एक है।

श्रीकांत पाराशर said...

Dunia men kadam kadam par hoshiyar log hain, aapko sambhal sambhal kar chalna padta hai, thoda sa chuke to fanse. koun kab aapka hiteshi banne ka dava kare aur kab aapki jeb katde, pata bhi nahi chalta.

समीर यादव said...

संता बंता डॉट कॉम वाले तो मुफ्त में शायर और शायरी दोनों बनाकर छोड़ते हैं. क्या...जुलुम है..अनिल जी.

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

हाँ अनिल भाई, अब बीस रुपये में शायर बनाने का दावा करना ग़लत है, कम से कम दो सौ रुपये तो होने चाहिए... मज़ाक कर रहा था. यह एस एम् एस संदेशों और विज्ञापनों के लिए भी एक संहिता (कोड) की ज़रूरत है.

PD said...

मुझे तो बस जो दिखा वो किसी ने ना देखा.. आपके मोबाईल में 361 मैसेज हैं.. अरे वाह.. फिर तो अधिकतर फारवार्ड किया हुआ ही मैसेज होगा.. कुछ इधर भी भेजिये.. और अगर आप 20 टके वाले शायर बन जाईये तो हम भी आपको गुरू मान कर आपसे कुछ सीख लेंगे.. ;)

योगेन्द्र मौदगिल said...

अनुराग शर्मा जी (smart indian) से सहमत हूं

Anonymous said...

केवल इसलिये क्‍योंकि हम ही उसका विरोध नहीं करते हैं । मैंने मैसेज और काल को लेकर अपनी सर्विस प्रोवाइडर कम्‍पनी को काल किया और कहा कि अगर आपने अवांछित मैंसेज और काल बंद नहीं किये तो मैं उपभोक्‍ता फोरम में जाऊंगा । और परिणाम ये रहा कि तीन दिनों में मेरे सारे अवांछित काल और एसएमएस बंद हो गये अब मैं सुकून में हूं