इस ब्लॉग पर आने के लिए शुक्रिया, कृपया कमेण्ट्स कर मुझे मेरी गलतियां सुधारने का मौका दें

Wednesday, November 18, 2009

इट इज़ सैड बट ट्रू

एक बहुत छोटी सी बात जिसके मायने बहुत -बहुत-बहुत ज्यादा बड़े हैं।पता नही ये सच है या नही?लेकिन ये लगता तो बहुत कड़ुवा सच है।रत्ना,कालेज की मेरी जूनियर और अब एक सरकारी कालेज मे प्राध्यापक ने ज़माने बाद मुझे आज एक एस एम एस भेजा।पता नही उसके मन मे क्या था?उसका एस एम एस जस का तस आपके सामने रख रहा हूं।

The hard reality is that,

When you need advice,every one is ready to help you,

But,When you realy need help,every one is ready to advice you..

its sad but true.

क्या लगता है?क्या ये सच है?मुझे तो लगता है कि ये सच है!आपको क्या लगता है बताईयेगा ज़रूर।

23 comments:

महफूज़ अली said...

Aadarniya Anil bhaiya.....


yeh bilkul sach hai........

Udan Tashtari said...

यही यथार्थ है!!

Dinesh Saroj said...

उपरलिखित SMS में थोडा सा बदलाव करना चाहुंग...

When you need advice, NO ONE EVEN REALISE WHAT YOU NEED,

But,When you realy need help,every one is ready to advice you..

मैंने अपने जीवन में इसका अनुभव कई दफा किया है...

राज भाटिय़ा said...

एक सच है जी

ज्ञानदत्त G.D. Pandey said...

बात दूसरी तरफ की भी है - जब कोई सलाह मांगता है तो उसका ध्येय सलाह नहीं, अपनी सोच का कंफर्मेशन मांगना होता है, बहुधा।

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

मुफ्त की सलाह देने में किसका क्या जाता है? हाथ हिलाए बिना दानवीर बनने से बेहतर क्या बात होगी. तुलसी दास जी ने कहा भी है, "पंडित सोई जो गाल बजावा ..."

बी एस पाबला said...

व्यवहारिकता में यही महसूस होता है।

बी एस पाबला

Dipak 'Mashal' said...

सौ आने सच... गाना भी है ''सुख में सब साथी.. दुःख में ना कोए...''
जय हिंद...

Dipak 'Mashal' said...

सौ आने सच... गाना भी है ''सुख में सब साथी.. दुःख में ना कोए...''
जय हिंद...

Dipak 'Mashal' said...

सौ आने सच... गाना भी है ''सुख में सब साथी.. दुःख में ना कोए...''
जय हिंद...

Dipak 'Mashal' said...

सौ आने सच... गाना भी है ''सुख में सब साथी.. दुःख में ना कोए...''
जय हिंद...

Dipak 'Mashal' said...

सौ आने सच... गाना भी है ''सुख में सब साथी.. दुःख में ना कोए...''
जय हिंद...

Dipak 'Mashal' said...

सौ आने सच... गाना भी है ''सुख में सब साथी.. दुःख में ना कोए...''
जय हिंद...

श्रीश पाठक 'प्रखर' said...

oh, no further advice...

जी.के. अवधिया said...

किसी अधिवक्ता से सलाह माँग कर देखिये, सिर्फ सलाह ही नहीं आपको सलाह के साथ बिल भी देगा!

महफूज़ अली said...

Anil bhaiya....... ek nayi post daali hai dekhiyega...

Babli said...

ये बात सौ फीसदी सही है ! बिल्कुल सच है और ऐसा ही होता है!

खुशदीप सहगल said...

अनिल भाई,
सलाह देने में सिर्फ मुंह ही ढीला करना है न...मदद करने में तो खीसा (जेब) ढीला करने की नौबत आ सकती है...इसलिए सलाह-ए-मुफ्त की लूट है...लूट सको तो लूट लो...वैसे कभी-कभी दोस्तों को आजमाने के लिए झूठ-मूठ ही मदद मांगनी चाहिए...कौन कितने पानी में है...सब पता चल जाता है...

जय हिंद...

Dr. Mahesh Sinha said...

Hard reality

शरद कोकास said...

अनिल भाई यह फॉर्वर्डेड मेसेज है ..इसका कोई अर्थ नही होता सिवाय इसके कि हम आप को याद करते है और आपका मोबाइल नम्बर हमारे पास है ..चाहे तो आप भी हमारा नम्बर दर्ज़ करके रखले ..। यह कटु सत्य है .. विश्वास न हो तो रत्ना जी से पूछ लें ।

अर्शिया said...

सच तो हमेशा कडवा होता है।
------------------
11वाँ राष्ट्रीय विज्ञान कथा सम्मेलन।
गूगल की बेवफाई की कोई तो वजह होगी?

cmpershad said...

कटु सच की अभिव्यक्ति॥

मुनीश ( munish ) said...

May be ! Nothing is 'absolute' or 'param' here . You must,however, meet her and convey the blessings of blog-brothers to her !