इस ब्लॉग पर आने के लिए शुक्रिया, कृपया कमेण्ट्स कर मुझे मेरी गलतियां सुधारने का मौका दें

Saturday, July 10, 2010

मुक्तिबोध के संघर्ष के दिनो की साथी नही रहीं

कालजयी साहित्यकार और छत्तीसगढ की अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पह्चान बनाने वाले गजानन माधव मुक्तिबोध की पत्नी देवलोक सिधार गईं।वे लम्बे समय से बीमार थी और उनका ये संघर्ष कल रात खत्म हो गया।वे 88 वर्ष की थी और मुक्तिबोध की मृत्यु के बाद उन्होने सारी ज़िम्मेदारी बखुबी निभाई।बच्चों के लालन-पालन से लेकर शिक्षा-दिक्षा किसी मे उन्होने कोई कसर नही छोड़ी थी।मुक्तिबोध के संघर्ष के दिनों मे उन्होने हर पल साथ दिया और इस बात का ज़िक्र आदरणीय परसाई जी,नेमीचंद जैन और अशोक बाजपेई ने अपने संस्मरणों मे किया है।सुबह उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया।ईश्वर उनके चारों पुत्रो,जाने माने पत्रकार दिवाकर,रमेश,दिलीप और गिरीश को इस दुःख को सहने की शक्ति दे।उस महान आत्मा को मेरी श्रद्धांजलि।

13 comments:

Jandunia said...

महान आत्मा को मेरी श्रद्धांजलि।

ali said...

हमारी भी श्रद्धांजलि

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

आदरणीय शांता जी को नमन्!
आप से उन का नाम अंकित करना छूट गया।

S.M.HABIB said...

चरण स्पर्श एवं श्रद्धांजलि.

K.P.Chauhan said...

shrimati shanti mukti bodh ji kaa 88varsh ki aayu me kal nidhan hone par BHARAT KE LOKTANTR SE K,P,CHAUHAN ashrupoorn shrandhaajli arpit karte hai or ish se praarthnaa karte hain ki unko apne charan kamlon me sthaan de or dukhi pariwaar ko saantwnaa pardaan kare

Vivek Rastogi said...

हमारी श्रद्धांजलि !!

राज भाटिय़ा said...

आदरणीय शांता जी को हमारी भाव भीणी श्रद्धांजलि

राज भाटिय़ा said...

इस महान आत्मा को हमारी तरफ़ से भाव भीनी श्रद्धांजलि!!! पहली टिपण्णी अगर गलत हो तो उसे प्रकाशित ना करे, धन्यवाद

अनूप शुक्ल said...

शांताजी को मेरी विनम्र श्रद्धांजलि।

डॉ महेश सिन्हा said...

एक युग का अंत . श्रद्धा सुमन

P.N. Subramanian said...

ताई को विनम्र श्रद्धांजलि.

आदित्य आफ़ताब "इश्क़" said...

नमन ,वंदन ...........सादर चरण स्पर्श! ..............

शरद कोकास said...

हम कह सकते है कि हमने उनको देखा है ... अश्रुपूरित श्रद्धांजलि