Saturday, September 3, 2011

राजीव गांधी के हत्यारों,अफ़ज़ल गुरू के साथ-साथ कसाब को भी माफ़ कर दिया जाना चाहिये!सज़ा देने के लिये है ना,अन्ना की पूरी टीम

राजीव गांधी के हत्यारो की फ़ांसी की सज़ा माफ़ कराने के लिये इसी देश के लोग सक्रिय हो गये हैं,विधानसभा में प्रस्ताव आ रहे हैं,अब संसद पर हमले के आरोपी अफ़ज़ल गुरू के लिये भी एक विधायक सामने आ गये हैं,दूसरी पार्टियां भी सामने आयेंगी ऐसी आशंका है।ठीक ही तो है,उन सब के साथ कसाब को भी माफ़ कर दिया जाना चाहिये!सज़ा देने के लिये है ना,अन्ना की पूरी टीम है,ओम पुरी है,कुमार विश्वास है,रामदेव बाबा है,सरकार के खिलाफ़ उठने वाला हर सर है,उसके खिलाफ़ निकलने वाली हर आवाज़ है।

5 comments:

Atul Shrivastava said...

हद्द है.... बेशर्मी की और हरामखोरी की..... देश पर हमला करने वालों और देश की शांति भंग करने वालों को बचाने का काम देश के तथा‍कथित कर्णधार ही कर रहे हैं..... और उन लोगों को सजा देने के तरीके ढूंढ रहे हैं जो इस देश में सुख चैन लाने प्रयासरत हैं................ डूब मरना चाहिए

ट्रू सोल्जर said...

BESARMI KI YAH HAD HAI

Nilam-the-chimp said...

मै भी अन्ना तू भी अन्ना...

यह देश है वीर अन्नाओ का, अनपढ़ नेताओ का, गवार और नालायक सांसदों का.

इन सांसदों का यारो क्या कहना, ये लगाते देश को लाखो करोडो का चूना.

बड़ी मोटी चमड़ी है इन सालो की, बड़े तीखे हैं दात चारा खाने वालो के.

यहाँ बैठते है रावण संसद में.

ये सुनले है हमें तमन्ना मर मिटने की, कसम हमें तिरंगे की.

वक्त है आओ मिलकर इंकलाबी नारा बुलंद कर दे.

भारत माँ की छाती छलनी होती इन चोरो से, छाती पर लोटते सांपो से.

आओ दिलादे मुक्ति देश को इन गद्दारों से.

टीम अन्ना, किरण बेदी और ओम पुरीजी ने कुछ भी गलत नहीं कहा अथवा किया है। अब हमें दिखाना है की राष्ट्र जग गया है, इसके लिये हम सब आइये नेताओ को अनपढ़, गवार, नालायक , दोमुहे, चोर, देशद्रोही, गद्दार कहती हुई एक चिठ्ठी लोकसभा स्पीकर को भेजे(एक पोस्टकार्ड ). देखते हैं देश के करोडो लाखो लोगो को सांसद कैसे बुलाते है अपना पक्ष रखने के लिये। यदि इससे और कुछ नहीं हुआ तो भी बिना विसिटर पास के लोक तंत्र के मंदिर संसद को देखने और किरण बेदी के साथ खड़े होने का मौका मिलेगा। और संसद ने सजा भी दे दी तो भी एक उत्तम उद्देश्य के लिये ये जेल भरो होंगा।

में ये स्पष्ट कर दू की यह विचार मैने एक टिप्पणी से उठाये हैं पर में इससे १००% सहमत हूँ। कृपया इस विचार को अपने अपने ब्लॉग पर ड़ाल कर प्रसारित करे। आइये राष्ट्र निर्माण में हम अपनी भूमिका निभाये।

जय हिंद

http://tatva-bodh.blogspot.com/

हितेन्द्र said...

सही कहा आपने| हाथ धोकर अन्ना टीम के पीछे पड़े हैं यह नेता और आतंकवादियों को माफी दिलवाना चाहते हैं|

वन्दना said...

जब देश पर आतंक का साम्राज्य हो तो यही तो होगा और उम्मीद क्या की जा सकती है। आतंक को इन लोगो ने ही पुष्ट किया है।