इस ब्लॉग पर आने के लिए शुक्रिया, कृपया कमेण्ट्स कर मुझे मेरी गलतियां सुधारने का मौका दें

Wednesday, August 5, 2015

तो क्या हम ये नही कह सकते कि जयचंदो की कमी नही है इस देश में?

एक छोटा सा सवाल बहुत बडी उथल पुथल मचा रहा है मन/मस्तिष्क में,कि आखिर हमारे देश के अंदर घुस कर हमले करते है,वे आखिर रुकते/छुपते तो होंगे कंही न कंही?आखिर पाकिस्तानी आतंकवादी यंहा घुसने से पहले रुकने य छुपने की तैयारी तो करते ही होंगे?आखिर वे किसी न किसी घर में पनाह तो लेते ही होंगे?तो क्या हम ये नही कह सकते कि जयचंदो की कमी नही है इस देश में?अगर ऎसा कहता तो हूं तो ये साम्प्रदायिकता तो नही होगी?क्या बिना सुरक्षित शरणस्थली के कोई अंजान शहर/देश में कैसे घुस सकता है?हो सकता है इसमे किसी भाई को जातिवाद की बदबू आये पर मेरा सवाल शुद्ध रुप से आतंकवादियों के शरणस्थली के विषय में है,शरणदाताओ के विषय में है.

No comments: