इस ब्लॉग पर आने के लिए शुक्रिया, कृपया कमेण्ट्स कर मुझे मेरी गलतियां सुधारने का मौका दें

Sunday, June 5, 2011

बाबा रामदेव आपका ये चेला आपके साथ है, बिना किसी शंका-कुशंका के।सवाल सिर्फ़ भ्रष्टाचार को मिटाने का है।

बाबा रामदेव आज की तारीख मे कौन नही जानता उन्हें।सारे देश में भ्रष्टाचार को मिटाने की अलख जगा दी है।अंग्रेज़ों के बाद काले अंग्रेज़ो य देसी अंग्रेज़ों द्वारा लूट खसोट कर विदेशी बैंको मे जमा धन को वापस लाकर राष्ट्रीय संपत्ति घोषित कराने की मांग पर अड़े बाबा रामदेव।याद आता है एक अविस्मरणीय क्षण जब बाबा ने मुझे गले लगा लिया था।मौका था रायपुर आये बाबा का प्रेस क्लब मे स्वागत करने का।बाबा ने प्रेस क्लब परिवार को संबोधित कर जो कहा सो अलग भारत स्वाभिमान मंच की औपचारिक घोषणा भी उन्होने वंही की थी।प्रेस को जब सवाल करने के लिये आमंत्रित किया गया तो अधिकांश पत्रकारों ने मुझे लेकर उन पर सवाल दागे थे।सबने पूछा था कि आपकी बगल मे बैठा शख्स सबसे ज्यादा अलाल है तो बाबा मुस्कुराये और उन्होने तब कहा था मैं तेरा गुरू हूं दक्षिणा लिये बिना नही जाऊंगा,बोल देगा या नही।मैं क्या कहता मेरी तो सिट्टी-पिट्टी गुम हो गई थी।मैने उस समय कहा था बाबा जो आप चाहे मैं दूंगा। और ठहाकों के दौर के बीच उन्होने कहा था जब मैं चाहूंगा इससे ले लुंगा।                                                                                                                                                                 और आज समय आ गया है जब मुझे उन्हे गुरु दक्षिणा देना ही पड़ेगा,और मैं देने को तैयार भी हूं।मैं आज से भ्रष्टाचार के खिलाफ़ जारी हर मुहीम मे शामिल रहूंगा।शायग यही मेरी उन्हे आदर्श गुरु दक्षिणा होगी।चाहे जिसे जो कहना है वो कहे मगर मै तो यही कहता हुं कि उसने जो कुछ भी किया सही किया और भ्रष्टाचार के खिलाफ़ या तो आप खुद बोलिये या फ़िर खामोश रहकर विदेशों मे जमा काले धन पर कुंडली मारे काले नागों को तंदरूस्त होने क मौका दे रहे हैं आप लोग्।मैं इस मुद्दे पर बाबा,अन्ना और जो कोई भी हो उसके साथ खड़ा हुं और मरते दम तक़ लड़ूंगा इस बुराई के खिलाफ़ जिसके कारण हमारे करोड़ों भाई-बन्धु भूखे मर रहे हैं और चन्द लोग सोने की थाली में छप्पन भोग चख रहे हैं।चाहे इस मामले में कितने ही किन्तु-परन्तु सवाल हो,मैं तो दिल से बाबा रामदेव के साथ हूं,आखिर उन्होने भी तो मुझे दिल से लगा लिया था।

5 comments:

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

मैं भी हूं.

ललित शर्मा said...

हम दोनो गुरु चेला के साथ हैं।

जाट देवता (संदीप पवाँर) said...

अब सही समय आ गया है, गुरु दक्षिणा देने का,

प्रवीण पाण्डेय said...

देश स्वस्थ हो, भ्रष्टाचारमुक्त हो।

Dhirendra Giri said...

hum bhi hai baba ke sath