इस ब्लॉग पर आने के लिए शुक्रिया, कृपया कमेण्ट्स कर मुझे मेरी गलतियां सुधारने का मौका दें

Saturday, August 27, 2011

जीत का तो हमेशा जश्न ही होता है,समीक्षा हार की होती है,जय हो अन्ना,जय जनता जनार्दन की।

जीत का तो हमेशा जश्न ही होता है,समीक्षा हार की होती है।ऐसा ही कुछ हो रहा है टीम अन्ना के साथ और कांग्रेस के साथ।कल तक़ जो अन्ना के अनशन पर अंट-शंट बोल भी रहे है थे शायद जीत का झण्डा लेकर विजय जुलूस में शामिल मिले,बहुत से तो आज से ही चालू हो गये हैं।मगर तक़लीफ़ तो कांग्रेस कैम्प में होगी।क्या बहाने बनायेंगे,बडबोले क्राईसिस मैनेजर,एक से बढकर एक धांसू आईडिया सामने रखे थे,सब फ़ेल।अब करो समीक्षा,जीत ही गया,भ्रष्ट,जाहिल भगोड़ा हवलदार्।जय हो ,अन्ना।ज्नता जनार्दन की जय हो।

4 comments:

SACCHAI said...

" kya baat kar di sir ...maje daar makhhan lagkar mara hai kaskar ..maja aa gaya "

waqt mile to yahan bhi aaiyega sir

vyang - manmohan bane singham

http://eksacchai.blogspot.com/2011/08/blog-post_27.html
इस पोस्ट का हैरत अंगेज विडियो जरूर देखे .. पोस्ट तो आपको हँसाएगी जरूर ..मगर ये विडियो आपको सदैव याद रहेगा

अशोक बजाज said...

जय जनता !

प्रवीण पाण्डेय said...

अन्त भला तो सब भला।

Atul Shrivastava said...

जय हो।
समीक्षा दोनों ओर होनी चाहिए......

हां ये अलग बात है कि कांग्रेस खेमे में कहने को कुछ नहीं है और अन्‍ना के खेमे को भी इस जीत से अति उत्‍साह में नहीं आना चाहिए....
पर एक तथ्‍य यह भी है कि तीसरा पक्ष इस जीत के लिए अपनी पीठ थपथपाने में जुट गया है.... यानि यहां भी राजनीति..........
अन्‍ना की टीम को इससे बचना चाहिए यदि उसे जन समर्थन को बरकरार रखना है.....