इस ब्लॉग पर आने के लिए शुक्रिया, कृपया कमेण्ट्स कर मुझे मेरी गलतियां सुधारने का मौका दें

Saturday, August 27, 2011

इस स्थिती के लिये आखिर ज़िम्मेदार है कौन,क्या वो लोग नही जो सरकार चलाते रहे।

चलो कम से कम ये तो माना इस देश को चलाने वालों ने,कि देश को भ्रष्टाचार ने बुरी तरह जकड़ रखा है,और उससे निपटने के लिये सिर्फ़ जनलोकपाल ही काफ़ी नही है और भी सख्त कानून चाहिये।शुक्र है इस बात को सारे देश के सामने स्वीकार किया।अगर अन्ना नही होते,या अनशन नही करते तो क्या इस बात को इतनी ईमानदारी से हमारे देश के ठेकेदार जनता के सामने मानते।और फ़िर इस स्थिती के लिये आखिर ज़िम्मेदार है कौन,क्या वो लोग नही जो सरकार चलाते रहे।

6 comments:

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

यही सब जिम्मेदार हैं और कौन है इनके अलावा..

प्रवीण पाण्डेय said...

हम सब पर छोटे छोटे छींटे हैं।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

दिगम्बर नासवा said...

१०० % सहमत ... चलो अब मान लिया पर देखें करते क्या हैं ...

Atul Shrivastava said...

जानते तो थे पहले से ही क्‍योंकि जो कुछ हो रहा है.... 2 G, 3 G, cw G... सब इनकी आंखों के सामने तो हो रहा है, बस मानने की देर थी....

अब देखना ये है कि अब क्‍या करते हैं देश के ये कर्णधार......

Dr.Ashutosh Mishra "Ashu" said...

karandhar dhar karte rahe bantadhar..ye kya dhareng hame jo hain khud hi bhar...badhayee aaur apne blog per amantran ke sath