इस ब्लॉग पर आने के लिए शुक्रिया, कृपया कमेण्ट्स कर मुझे मेरी गलतियां सुधारने का मौका दें

Tuesday, June 25, 2013

.सिर्फ कायर कह देने से काम नही चलेगा.कुछ करना भी पडेगा.वर्ना इतिहास तो अपना काम कर ही रहा है.वो भी सिर्फ कायर शब्द का ही इस्तेमाल करेगा.

न केवल मुझे बल्कि सभी को याद होगा स्कूल के दिनों में हिन्दी के विरूद्धार्थी शब्द और उनका वाक्यों में प्रयोग.कायर शब्द तब भी सुना था और तब से लेकर आज तक सुनता ही आ रहा हूं.तब स्कूल के मास्टर इसका ज्यादा इस्तेमाल करते थे लेकिन आज देश के प्रधानमंत्री समेत बहुत से नेता इसका बार बार इस्तेमाल कर रहे हैं.पक गये है कान सुन सुन कर और इतनी बार तो मास्साब ने रट्टा मार मार कर याद नही कराया होगा.बचपन से कायर शब्द का अर्थ और उसका वाक्यों में प्रयोग जान गये है पर उसके विरुद्धार्थी शब्द का क्या हुआ बडे गुरूजी?बडे गुरुजी यानी युनिवर्सिटी के मास्साब.कभी कायर के विरुद्धार्थी शब्द का भी अर्थ बताते हुये उसका वाक्य में प्रयोग कीजिये सरजी.या फिर देश के तमाम स्कूलों से हिंदी के शब्दकोष से वीरता शब्द ही हटा दो.हम सब कायर शब्द के और कायरता के कायल हो जायेंगे.झंझट खत्म.जिनके परिवार का सदस्य शहीद होता है वही उसका दर्द जानता है.सिर्फ कायर कह देने से काम नही चलेगा.कुछ करना भी पडेगा.वर्ना इतिहास तो अपना काम कर ही रहा है.वो भी सिर्फ कायर शब्द का ही इस्तेमाल करेगा.

1 comment:

प्रवीण पाण्डेय said...

कुछ तो कर दो, कर्म बोलते..