Sunday, December 14, 2014

ड्रग फ्री इंडिया बनाना है!तो बनाओ ना,रोका किसने है?

वो कहते हैं कि ये करूंगा,वो करुंगा,ये जरुरी है वो जरुरी है?तो मेरा सवाल ये है कि रोका किसने है?मुझे जो अपने घर में करना रहता है वो मैं करता हूं किसी से पूछता तो हूं नही,फिर आपको को क्यों पूछना पड रहा है?ड्रग फ्री इंडिया बनाना है तो क्या अमेरिका से ओबामा आयेगा बनाने या रुस से पुतिन,या पाकिस्तान से नवाज शरीफ?सीधे सीधे शराब भांग गांजे के ठेके बंद कर दो!रोक कौन रहा है?कुछ नही तो कम से कम चुनाव तो चेपटी फ्री करा दो साहब.आप ही बेचो और आप ही रोना गाना करो,बात कुछ हजम नही हुई.ये मेरे मन की बात है.

2 comments:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (15-12-2014) को "कोहरे की खुशबू में उसकी भी खुशबू" (चर्चा-1828) पर भी होगी।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

GYANDUTT PANDEY said...

आगे देखते हैं क्या होता है। इतनी जलदी न आप जाने वाले हैं दुनियां से न हम। पांच साल बाद देखेंगे कि क्या बना क्या नहीं।
बाकी, लोग परिवर्तन को तैयार नहीं दिखते। जो करे सो सरकार करे...