इस ब्लॉग पर आने के लिए शुक्रिया, कृपया कमेण्ट्स कर मुझे मेरी गलतियां सुधारने का मौका दें

Wednesday, July 22, 2015

दिल्ली वालो के बडे दिल की तो तारीफ करना ही पडेगा भाई

आप अपनी कार के लिये ड्राईवर कितना ठोक बज़ा कर रकह्ते हैं.एक बार गलती की तो वार्निंग,दूसरी/तिसरी बार में कडी फटकार,बार बार करने पर गालियां और हर बार वही गलती करने पर...... बर्दाश्त नही करते ना.पर सरकार के मामले में हम कितना भी ठोक बज़ा कर फैसला करे,चलाने वाला खुद को मालिक ही समझ लेता है और फिर दे दनादन,ठोक ठोक कर कार सारी सरकार का कबाड बना देता है और हम सिर्फ तमाशाई बने देखते रह जाते है.हमारे पास बर्दाश्त करने के अलावा और कोई चारा नही रहता.फिर बर्दाश्त की भी हद होती है,खासकर दिल्ली वालो के बडे दिल की तो तारीफ करना ही पडेगा भाई.

No comments: