इस ब्लॉग पर आने के लिए शुक्रिया, कृपया कमेण्ट्स कर मुझे मेरी गलतियां सुधारने का मौका दें

Sunday, January 17, 2016

चलो भ्रष्ट अफसर डरने तो लगे.मुकेश गुप्ता ने साबित कर दिया कि काम कंही भी...

1 comment:

प्रवीण पाण्डेय said...

सच कहा है, काम कहीं भी किया जा सकता है।