इस ब्लॉग पर आने के लिए शुक्रिया, कृपया कमेण्ट्स कर मुझे मेरी गलतियां सुधारने का मौका दें

Thursday, January 21, 2016

नेताजी को बंगाली,तिलक को मराठी ही मानेंगे तो फिर जातिवाद का ज़हर तो हम ही...

1 comment:

प्रवीण पाण्डेय said...

साझा विरासत है, साझा देश है, सबको सम्हालना होगा।