इस ब्लॉग पर आने के लिए शुक्रिया, कृपया कमेण्ट्स कर मुझे मेरी गलतियां सुधारने का मौका दें

Friday, July 8, 2011

राहुल गांधी का कहना है कि यूपी को दलाल चला रहे हैं,मेरा सवाल ये है कि तो फ़िर दिल्ली की सरकार या देश को कौन चला रहा है?

एक छोटी सी पोस्ट बहुत बड़ा सा सवाल लिये हुये।राहुल गांधी को उत्तरप्रदेश के अपने जमीनी दौरे के अनुभव से ये अनुभव हुआ कि  उत्तरप्रदेश को द्लाल चला रहे हैं।उन्होने इस दिव्यज्ञान की बाक़ायदा प्रेस कांन्फ़्रेंस में घोषणा भी की।अन मेरा सवाल ये है कि अगर उत्तरप्रदेश को दलाल चला रहे है तो केन्द्र की युपीए सरकार को या देश को कौन चला रहा है।थोड़ा उस बारे में भी अपनी राय रखें तो मुझ जैसे भारत के असंख्य अल्पज्ञानियों का ज्ञानवर्द्धन होगा। वैसे राहुल गांधी शायद दिल्ली में ज्यादा रहते हैं इसलिये उनसे वंहा का हाल पूछ  रहा हुं।एक के बाद एक दलाल मंत्री पकड़ा रहे हैं,मगर राहुल गांधी को यूपी के दलाल ही नज़र आ रहे हैं,ऐसा क्यों?इस सवाल का मतलब यूपी के दलालों को बचाना नही बल्कि दिल्ली या केन्द्र सरकार का हाल जानना है।क्या कभी यूपी जैसा पैदल मार्च वे किसी कांग्रेस या उसकी मित्र पार्टियों के शासन वाले प्रदेश में करेंगे?क्या उन्हे ये दिव्य ज्ञान अपनी सरकार के बारे में भी मिलेगा या पड़ोसी के मकान में ही तांक-झांक करते रहेंगे।कल कपड़ा मंत्री ने इस्तीफ़ा नही दिया है,युपीए सरकार के कपड़े उतार दिये हैं।ज़रा बार नंगी हो रही युपीए सरकार और उसके कारणो पर भी प्रकाश डालें तो अच्छा लगेगा।अनिल अंबानी का नाम छोड़ कर उसके तीन अफ़सरों के नाम नामंज़ूर टू जी मामले में डालना दलाली नही है तोम क्या है?क्या उस दलाल का पता है राहुल गांघी जी आपको?मैं तो सिर्फ़ इतना ही जानता हूं आप ज्ञानी है मुझ मूरख को ज्ञान देने की कृपा करेंगे तो अच्छा रहेगा।

15 comments:

Arunesh c dave said...

दलाल का मतलबे मालूम नही होगा शहजादे को ब्रोकर कहने सलाहकार बोलते ही नही और क्या हक है इस कालेज फ़ेल को यह कहने का भारतीय राजनीती मे ये संस्क्रुती लाया कौ इसका राजवंश ही न

बी एस पाबला said...

लाख टके का सवाल

DR. ANWER JAMAL said...

नेहरू जी से लेकर राहुल जी तक दिल्ली का शासन प्रायः ब्राह्मणों ने ही चलाया है और उत्तर प्रदेश का भी यही चलाना चाहते हैं ।

Ambarish Misra said...

राहुल का यू पी प्यार
चुनाव की बहार
दिखा रहा किसानो को दर्द
आप ही बताओ कि
क्या है राहुल मर्द ?

DUSK-DRIZZLE said...

BHAIYA AP TO RAJNITI SAMJHATE HI HAIN RAHUL NE BHI TO AKHIR NEHRU KHANDAN KI GHUTTI PIYA HAI
SANJAY VARMA

Atul Shrivastava said...

अपने घर में हो रहे कारनामों पर काबू न पाने की भडास है शायद।
राहुल गांधी को पहले अपने लोगों पर लगाम कसना चाहिए इसके बाद किसी दूसरे पर वार करना चाहिए।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बहुत सही जबाब है!

Ratan Singh Shekhawat said...

गाँधी परिवार से बड़ा सत्ता का दलाल कौन हो सकता है ?

नवीन प्रकाश said...

मेरा भी यही सवाल है ,
एक और बात राहुल गाँधी ने कहा की जितने भ्रष्टाचारी है सब जेल में है .
तो दयानिधि मारन, कपिल सिब्बल और जाने कितनो को देखने के लिए चश्मा इन्हें अब बनवा ही लेना चाहिए .

झुनमुन गुप्ता said...

वाह वाह क्या बात कही!

झुनमुन गुप्ता said...

वाह वाह क्या बात कही!

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ (Zakir Ali 'Rajnish') said...

सवाल तो बडा कर्रा है।

------
TOP HINDI BLOGS !

प्रतीक माहेश्वरी said...

जनाब दलाली तो कांग्रेस का हक़ बन चूका है... वो तो बिक चुके ही हैं अब देश ही बचा है.. जिसे बचाने वाले ज्यादा नहीं है.. सो वो भी बिकेगा..

परवरिश पर आपके विचारों का इंतज़ार है..
आभार

दिगम्बर नासवा said...

दलाली का मतलब यू पी और दिल्ली में अलग अलग है ..

KSR Murty said...

Anil Sir Its fentastic question I think No one are able to answer your question because In Indian politics our politicians comes with a qualification of broker (mediatiary) and corruption along with some criminal records. For eradicating this brokers the total election system has to be changed .