Tuesday, August 16, 2011

सड़ियल सिस्टम कानखजूरा हो गया है,दो-चार टांग तोड़ने से वो लंगड़ा होने वाला नही!देश का खून चूसते ही रहेगा!

साला सडेला सिस्टम अब बिच्छू नही रहा,वो कानखजूरा हो गया है।भ्रष्टाचारी राजा, कलमाडी, कन्नीमोज़ी, मारन, जैसी सैकड़ो,हज़ारों टांगे है।और अब वो डंक मार कर खुश नही हो जाता,खून चूसने लगा है और लगता है आखिरी बूंद तक देश का खून चूसने पर तुल गया है।समय आ गया है कि उसकी राजा,मारन जैसी टांगे तोड़ने से कुछ फ़र्क़ नही पड़ना वाला,इससे कानखजूरा लंगड़ा नही होने वाला,अब तो कानखज़ूरे का काम तमाम किये बिना कुछ नही बदलने वाला।

5 comments:

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

baba ramdev hi ekmatra sahara hain. anna ka lokpal ek tool ho sakta hai lekin poori shuddhi baba ke saath..

Suman said...

nice

dada said...

" ek dum sahi boss... parfect kaha hai "

waqt mile to yahan par bhi tasrif laye

हाक थू ...मुजरेवाली इस पुलिश पर

http://eksacchai.blogspot.com/2011/08/blog-post_16.html

SACCHAI said...

sahi kaha hai boss

waqt mile to yahan par bhi tasrif laye sir

हाक थू ...मुजरेवाली इस पुलिश पर

http://eksacchai.blogspot.com/2011/08/blog-post_16.html

झुनमुन गुप्ता said...

अब उम्मीद की किरण नजर आने लगी है। अन्ना हजारे के रूप में।